Husn Shayari Hindi Mein – हुस्न दिखाकर भला कब हुई


हुस्न दिखाकर भला कब हुई है मोहब्बत…….!!
वो तो बस काजल लगाकर हमारी जान ले गयी…!!

Husn Shayari Hindi Mein – हुस्न ए मुजस्सिम हो या

हुस्न ए मुजस्सिम हो या साँवली सी सूरत..
इश्क़ अगर रूह से हो तो हर चेहरा कमाल लगता है.


Husn Shayari Hindi Mein – नज़र नज़र का फर्क है

नज़र नज़र का फर्क है, हुस्न का नहीं ;
महबूब जिसका भी हो बेमिसाल होता है..

Husn Shayari Hindi Mein – हमें भी ज़ल्वागाहे नाज़ तक

हमें भी ज़ल्वागाहे नाज़ तक ले कर चलो मूसा,
तुम्हें गश आ गया तो हुस्न ए जानाँ कौन देखेगा


Husn Shayari Hindi Mein – कांच का जिस्म कहीं टूट

कांच का जिस्म कहीं टूट न जाये,
हुस्न वाले तेरी अंगड़ाइयो से डर लगता है


Husn Shayari Hindi Mein – गुरुर-ए-हुस्न की मदहोशी में उनको

गुरुर-ए-हुस्न की मदहोशी में उनको ये भी खबर नहीं,
कौन चाहेगा मेरे सिवा उनको उम्र ढल जाने के बाद..!