Hindi Shayari Maa Baap Par – घर आके माँ-बाप बहुत रोये अकेले में


घर आके माँ-बाप बहुत रोये अकेले में
मिट्टी के खिलौने भी सस्ते ना थे मेले में