Two Line Hindi Poetry – Na Ched Kissa A Ulfat


ना छेड़ किस्सा ऐ उल्फत का, बड़ी लम्बी कहानी है ..
मैं गैरों से नहीं हारा, किसी अपने की मेहरबानी है……