Zulf Shayari Hindi Mein – आह को चाहिए इक उम्र

आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *