Zarurat Shayari Hindi Mein – ज़िंदगी यूँ भी बहुत कम

ज़िंदगी यूँ भी बहुत कम है मोहब्बत के लिए
रूठ कर वक़्त गवाने की ज़रूरत क्या है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *