Zakhm Shayari Hindi Mein – ज़ख्म क्या क्या न ज़िंदगी

ज़ख्म क्या क्या न ज़िंदगी से मिले
ख्वाब पलकों से बेरुखी से मिले

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *