Tag: Inkaar Hindi Poetry

Inkaar Shayari Hindi Mein – ख़ामोशी तुम्हारी.. तो सब कुछ

ख़ामोशी तुम्हारी.. तो सब कुछ बोल रही उस दिन…
ना जाने क्यूँ मेरे दिल.. उसे सुनने से इंकार कर रहा था…



Inkaar Shayari Hindi Mein – इक़रार-ए-मोहब्बत तो बड़ी बात है

इक़रार-ए-मोहब्बत तो बड़ी बात है लेकिन
इंकार-ए-मोहब्बत की अदा और ही कुछ है