Tag: Bhool Hindi Poetry

Bhool Shayari Hindi Mein – अब और क्या किसिसे मरासीम

अब और क्या किसिसे मरासीम बढ़ाए हम
ये भी बहुत है तूजको अगर भूल पाए हम



Bhool Shayari Hindi Mein – आज किसी की दुआ की

आज किसी की दुआ की कमी है,
तभी तो हमारी आँखों में नमी है,
कोई तो है जो भूल गया हमें,
पर हमारे दिल में उसकी जगह वही है…