Selected Sher O Shayari – हमने तो फिराई थी रेतो पर उंगलिया

हमने तो फिराई थी रेतो पर उंगलिया ,
मुड़ कर देखा तो तुम्हारी “तस्वीर “बन गयी .!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *