Selected Sher O Shayari – सुलाके सबको गहरी नींद में

सुलाके सबको गहरी नींद में …
फिर अकेला क्युं अंधेरा जागता है!!!!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *