Sad Sher O Shayari – इक-इक पत्थर जोड़ के मैंने जो दीवार बनाई

इक-इक पत्थर जोड़ के मैंने जो दीवार बनाई है
झाँकूँ उसके पीछे तो रुस्वाई ही रुस्वाई है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *