Sad Sher O Shayari – आग सूरज मैँ होती हैँ जलना जमीन को

आग सूरज मैँ होती हैँ जलना जमीन को पडता हैँ,
मोहब्बत निगाहेँ करती हैँ तडपना दिल को पडता हैँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *