Nazakat Shayari Hindi Mein – नाज़ुक था वक़्त इसलिए वक़्त

नाज़ुक था वक़्त इसलिए वक़्त के नज़ाकत को समझते रहे,
कैसे पलट जाता है सिक्का ज़िंदगी का हम उस हक़ीक़त को समझते रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *