Najar Shayari Hindi Mein – बुझी नज़र तो करिश्मे भी

बुझी नज़र तो करिश्मे भी रोज़ो शब के गये
कि अब तलक नही पलटे हैं लोग कब के गये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *