Najar Shayari Hindi Mein – न जाने कैसी नज़र लगी

न जाने कैसी नज़र लगी है ज़माने की,
अब वजह नहीं मिलती मुस्कुराने की

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *