Mother Shayari Hindi Mein – जब तक रहा हूँ धूप

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *