Mohabbat Shayari Hindi Mein – कायनात का हर ज़र्रा मुझे

कायनात का हर ज़र्रा मुझे तुझ से जुदा करने पर
जमा हो जाए
मोहब्बत इतनी सस्ती नहीं साहब जो बीच बाज़ार
नीलाम हो जाए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *