Manzil Shayari Hindi Mein – बढ़ते चले गए जो वो

बढ़ते चले गए जो वो मंज़िल को पा गए
मैं पत्थरों से पाँव बचाने में रह गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *