Khwab Shayari Hindi Mein – रजाईयां कहाँ होती है आशिक़ों

रजाईयां कहाँ होती है आशिक़ों के नसीब में,
वो तो अधूरे ख्वाब ओढ़कर सोते है..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *