Khafa Shayari Hindi Mein – खफा हैं फिर भी आकर

खफा हैं फिर भी आकर छेड़ जाते है तसव्वुर में,
हमारे हाल पर कुछ मेहरबानी अब भी होती हैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *