Judai Shayari Hindi Mein – जुदाई पर ही क़ायम है

जुदाई पर ही क़ायम है निज़ाम ऐ
बिछड़ जाता है पानी भी गले मिल मिल के साहिल से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *