Jism Shayari Hindi Mein – ज़ुल्फें बहती है माथे से

ज़ुल्फें बहती है माथे से बदन पर,
उसका जिस्म कोई दरिया हो जैसे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *