Inkaar Shayari Hindi Mein – इक़रार और इंकार की कश्मकश

इक़रार और इंकार की कश्मकश में ,
फ़ना हो गयी जिंदगी ।
हाँ सुनने को हम तरस गए, ना उन्होंने की नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *