Dard Bhari Shayari – झुठ बोलकर तो मैं भी दरिया पार कर जाता

झुठ बोलकर तो मैं भी दरिया पार कर जाता,
मगर डूबो दिया मुझे सच बोलने की आदत ने…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *