Dard Bhari Shayari – जुर्म में हम कमी करें भी तो क्यों …?

जुर्म में हम कमी करें भी तो क्यों …?
तुम सजा भी तो कम नहीं करते ….!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *