Dard Bhari Shayari – जब मोहब्बत ही नहीं दरमियाँ..

जब मोहब्बत ही नहीं दरमियाँ..
वो रुठेंगे भी क्या, हम मनाएंगे भी क्या…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *