Dard Bhari Shayari – जब इश्क और क्रांति का अंजाम एक ही है

जब इश्क और क्रांति का अंजाम एक ही है
तो राँझा बनने से अच्छा है भगतसिंह बन जाओ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *