Dard Bhari Shayari – छोड़ दो किसी से वफ़ा की आस

छोड़ दो किसी से वफ़ा की आस,
ए दोस्त
जो रुला सकता है, वो भुला भी सकता है.!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *