Category: Minnat Shayari

Minnat Shayari Hindi Mein – वहशत में भी मिन्नत-कश-ए-सहरा नहीं

वहशत में भी मिन्नत-कश-ए-सहरा नहीं होते
कुछ लोग बिखर कर भी तमाशा नहीं होते


Minnat Shayari Hindi Mein – अब तुमपे किसी बात का


अब तुमपे किसी बात का भी होता नहीं असर,
मिन्नत करों सवाल करों इल्तिजा करों,

Minnat Shayari Hindi Mein – मज़ा तब है चमक ऐसी

मज़ा तब है चमक ऐसी हो हासिल तुझको दुनिया में….
कि सूरज रौशनी के वास्ते मिन्नत करे तेरी.