Month: April 2017

Raat Shayari Hindi Mein – शुरू होने को हैं ख़्वाबो

शुरू होने को हैं ख़्वाबो के सिलसिले,
फिर एक रात ने दस्तक दी है



Raat Shayari Hindi Mein – बैचेन इस कदर थी….

बैचेन इस कदर थी….
सोई न रात-भर….

पलकों से लिख रही थी….
तेरा नाम चाँद पर..!!!