Month: August 2016

दर्द भरी शायरी ४ लाइन में – सदियों से जागी आँखों को एक

सदियों से जागी आँखों को एक बार सुलाने आ जाओ;
माना कि तुमको प्यार नहीं, नफ़रत ही जताने आ जाओ;
जिस मोड़ पे हमको छोड़ गए हम बैठे अब तक सोच रहे;
क्या भूल हुई क्यों जुदा हुए, बस यह समझाने आ जाओ।

Ibaadat Shayari – Kaun Tha Apna Jis Pe Inaayat Karte

कौन था अपना जिस पे इनायत करते
हमारी तो हसरत थी, हम भी मोहब्बत करते
उसने समझा ही नहीं मुझे किसी काबिल
वरना उसे प्यार नहीं उसकी इबादत करते



Romantic Love Shayari 4 Line Mein – Deewana Hun Tera Mujhe Inkaar Nahin

मैं दीवाना हूँ तेरा मुझे इंकार नहीं;
कैसे कह दूं कि मुझे तुमसे प्यार नहीं;
कुछ शरारत तो तेरी नज़रों में भी थी;
मैं अकेला ही तो इसका गुनहगार नहीं।